star life 1


http://www.youtube.com/watch?v=H8Jz6FU5D1A 
http://en.wikipedia.org/wiki/Star
क्या आप जानते हैं की – हमारी ही तरह – तारों की भी जीवन यात्रा होती है?  जन्म से पूर्व का विकास, जन्म, विकास , एवं आखिर में मृत्यु ! आज इस पर बातें करते हैं … की किस तरह अलग अलग प्रकार के सितारे बनते हैं , और कितनी अलग अलग तरह से उनकी यात्रा का अंत होता है |


और – यह जानना भी बहुत महत्व पूर्ण है कि, यह जीवन यात्रा बहुत कुछ उसी तरह है – जैसा कि धार्मिक ग्रंथों में संसार के निर्माण व प्रलय को समझाया गया है |  जैसे कि – हमारे हिन्दू ग्रंथों में कहा गया है – शिव का तीसरा नेत्र खुलना .. – यह चित्र देखिये , (और यदि चाहें तो लिंक क्लिक कर के इसी का विडियो देखिये )-
http://www.youtube.com/watch?v=NAinKUU-Mo8 






तो बात करें तारों के जन्म की | 

जैसा कि हम जानते ही हैं – अंतरिक्ष नाम है अथाह और अनंत फैलाव का – जिसे कि माना जाता है कि यह पूर्ण रूप से खाली और रीता है – जिसे अंग्रेजी में वैक्यूम कहते हैं | लेकिन ध्यान देने की बात है कि यह शब्द “वैक्यूम” वैसा हे है जैसे कि शून्य या कि अनंत | दरअसल तो वैक्यूम जैसी कोई चीज़ नहीं होती – जब पदार्थ का घनत्व घटता ही जाए – तो हम एक निर्धारित सीमा के बाद उस जगह को वैक्यूम कहते हैं | जब हवा का दबाव इतना कम हो कि उसे व्यावहारिक रूप से जीरो या शून्य मान लिया जाए – तब उसे वैक्यूम कहते हैं – और अंतरिक्ष का यह विस्तार प्रभाव में तो शून्य है – किन्तु असलियत में अंतरिक्ष में भी अणु परमाणु होते हैं ! यह और बात है कि वह हमारे रौशनी के बल्ब के अन्दर की जगह से भी बहुत कम मात्रा में होते हैं | अंतरिक्ष के यह परमाणु बादल अतिशय तरल तो हैं , लेकिन रीते नहीं |



यह नक्षत्रीय धूल मुख्य रूप से हलकी गैसों – हाईड्रोजन  एवं हीलियम की बनी है | यह बहुत बड़े विस्तार में फैली होती हैं – और इन्हें “नेबुला” कहा जाता है |यह एक चित्र है नेबुला का – यहाँ जो खम्बे से दिख रहे हैं, एक एक प्रकाश वर्ष जितने लम्बे हैं !! खम्बे के ऊपर जो उंगलियाँ सी दिखती हैं – वे संपूर्ण सौर्य मंडल से बड़ी हैं!!) इनमे कई हजारों लाखों तारे भ्रूण की स्थिति में पल रहे हैं 

  


 इन नेबुला के भी कई प्रकार हैं –  उत्सर्जनप्रतिबिंबन, कृष्ण , नक्षत्रीय एवं सुपरनोवा अवशेष ) http://burro.astr.cwru.edu/stu/stars_birth.html) . यह नेबुला करोड़ों वर्षों तक विश्रांति की स्थिति में रहते हैं | फिर कभी उनके निकट से कोई अशांति का वाहक गुज़ारे (जैसे कि कोई ब्लैक होल  या कोई तारकीय विस्फोट) -तो धूल के इस बादल में कुछ उथल पुथल होती है | (जब हम निकट कहते हैं तो यह हमारी निकटता नहीं है – अंतरिक्ष में कई प्रकाश वर्षों की दूरी को निकट माना जाता है | जानकारी के लिए – प्रकाश एक सेकण्ड में ३ लाख किलोमीटर की दूरी तय करता है – तो एक मिनट में इसका साठगुना, फिर एक घंटे में इसका साठ गुना, फिर एक दिन में इसका चौबीस गुना और एक वर्ष में इसका भी तीन सौ पैसठ गुना | इस दूरी को प्रकाश वर्ष कहते हैं – और कई प्रकाश वर्षों की दूरी अंतरिक्ष में “निकट” कही जाती है ) 


तब कुछ गोलियां सी बन जाती हैं – समझें कि कस कर खिंची हुई एक चादर पर कुछ अंटियाँ बिखेर दी जाएँ और उस पर से एक भारी गोला लुढकाया  जाए – तो उस गोले की वजह से जो दबाव और झुकाव बनेगा- तो सब छोटी अंटियाँ उस और लुढ़क पड़ेंगी और कुछ गुच्छे से बन जायेंगे | इन इकट्ठी हुई गोलियों की वजह से वहां चादर और नीची हो जाएगी एवं और अधिक गोलियां इस और आने लगेंगी – और यह होता ही जाएगा |इसे “अक्रेशन ” कहते हैं | यह ढेरी और सघन होती जाती है , गुरुत्वाकर्षण से गर्मी बढती जाती है और दबाव भी बढ़ता जाता है | जब यह हाईड्रोजन का ढेर काफी बड़ा हो जाए और परमाणु प्रक्रिया शुरू होने के लायक दबाव बन जाए – तब इसे  प्रोटो स्टार “  कहते हैं |
दबाव के कारण इस के अंतर में परमाणु प्रतिक्रिया होने लगती है और विस्फोट शुरू हो जाते हैं | यह है जन्म के पूर्व का सितारा!! यह गुरुत्वाकर्षण के कारण घने होते जाने की स्थिति करीब एक या डेढ़ करोड़ वर्षों तक रहती है (तुलना कीजिये – हम अपनी माँ कि कोख में सिर्फ नौ महीने रहते हैं!) यह जो नया तारा बना है – इसकी विस्फोटक प्रतिक्रयाओं के कारण बड़ी तेजी से वाष्प (पानी की नहीं – अभी पानी नहीं बना है) बाहर फूटती है और तारा तेज़ी से घूमने लगता है | इस वजह से जिस धूल के विशाल बादल ने इस तारे को बनाया था – वह दूर हो जाता है – और तारा “माँ” की कोख से बाहर आ जाता है | http://www.youtube.com/watch?v=4elLkaeLqZQ&feature=related  यहाँ आप देख सकते हैं – तारे की जीवन यात्रा |




इसके आगे – जन्म के बाद तारे में क्या होता है – यह चर्चा हम अगले भाग में करेंगे |
जारी ….

Posted on November 25, 2011, in ब्रह्माण्ड, विज्ञान, सितारे. Bookmark the permalink. Leave a comment.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: